लेखक परिचय

जयराम 'विप्लव'

जयराम 'विप्लव'

स्वतंत्र उड़ने की चाह, परिवर्तन जीवन का सार, आत्मविश्वास से जीत.... पत्रकारिता पेशा नहीं धर्म है जिनका. यहाँ आने का मकसद केवल सच को कहना, सच चाहे कितना कड़वा क्यूँ न हो ? फिलवक्त, अध्ययन, लेखन और आन्दोलन का कार्य कर रहे हैं ......... http://www.janokti.com/

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़, विधि-कानून.


congress दिल्ली प्रदेश कांग्रेस और शीला सरकार एक बार फ़िर आमने सामने है । बात इतनी बिगड़ गई है कि प्रदेश कार्यालय की कुर्की-जब्ती की नौबत आ गई । मामला डीटीसी का बकाया राशिः न चुकाए जाने का है । डीटीसी बसों के किराये को चल रहे विवाद में न्यायालय ने कुर्की का आदेश दिया । न्यायालय के आदेश का पालन करते हुए डीटीसी अधिकारीगण दीनदयाल उपाध्याय मार्ग स्थित प्रदेश कार्यालय ‘राजीव भवन ‘ आ धमके । जमकर हंगामे के बाद कुर्की तो नहीं हो पाई परन्तु ,प्रदेश कांग्रेस की इज्जत जरुर नीलाम हो गई !

दरअसल २० साल पहले कांग्रेस ने एक रैली में डीटीसी बस का इस्तेमाल किया था जिसका २ लाख ६८ हज़ार रुपया उन्होंने नहीं चुकाया । वर्तमान में कर्ज बढ़कर ५ लाख से ज्यादा हो चुका है । यह कोई पहला मामला नहीं है जब राजनितिक दलों द्वारा सार्वजनिक उपक्रमों का निजी स्वार्थ में इस्तेमाल किया गया है । दूरसंचार निगम , नगर निगम ,जल बोर्ड , बिजली बोर्ड और भी न जाने कितने सरकारी साधनों का उपभोग बगैर शुल्क चुकाए होता रहा है । इस तरह के मामले में न्यायालय के आदेशों की धज्जियाँ खुले आम उडाई जाने पर भी कुछ नहीं हो पाता है । संगठित भ्रष्टाचार का इससे बड़ा उदाहरण शायद ही कहीं मिले । जनप्रतिनिधि ही जब जनता की पूंजी खाने लगे तो देश का क्या होगा ? अभी-अभी संपन्न हुए आम चुनावों में स्विस बैंक के काले धन की वापसी को लेकर खूब उठापटक हुई थी ।विदेशी संस्थाओं में जमा काले धन की वापसी , हवाला के सहारे भ्रमण कर रहे पैसों पर लगाम लगाने की बात तो दूर की कौडी है , पहले अपने देश में चल रही अनियमितताओं का कुछ किया जाए ! सत्ताधारी दल अपनी जिम्मेवारी निभाने के बजाय ख़ुद भी इस दलदल में फंसी दिखती है । ऐसे में भ्रष्टाचार एक सामाजिक जरुरत बनता हुआ दिख पड़ता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *