More
    Homeसाहित्‍यगजलगजल है कि दिल में सीधे उतरती

    गजल है कि दिल में सीधे उतरती

    —विनय कुमार विनायक
    तेरे मेरे सपनों की उड़ान है गजल
    कविता सुबह है तो शाम है गजल!

    गजल में शिकवा शिकायत होती है
    ये दर्द-ए-दिल की पहचान है गजल!

    गजल एक तन्हाई का सिलसिला है
    वाहवाही ना मिले, बेजान है गजल!

    गजल गाने गुनगुनाने की विधा है
    शायर के दिल-ए-अरमान है गजल!

    अरबी गजल में इश्क-ए-औरत होती
    फारसी में इश्क-ए-खुदाई हुई गजल!

    गजल औरताना से सुफियाना हुई है
    इश्केमजाजी से इश्केहकीकी गजल!

    उर्दू हिन्दवी में जमीनी हकीकत हुई
    हिन्दी में बहुआयामी हो गई गजल!

    जबतक उर्दू में लिखी होती अनबूझ
    मंच से सुनो तो आसान है गजल!

    हिन्दी का दामन थाम लिया जबसे
    सुविधा सम्पन्न सरेआम है गजल!

    गजल गले से निकलती तैरती हुई
    जन-सामान्य बीच आम है गजल!

    फिलवक्त तिरे मिरे बीच का तीर
    बड़े तीरंदाजों का सामान है गजल!

    गजल का दिल से रिश्ता रहा सदा
    दिल को आहत ना करना है गजल!

    गजल है कि दिल में सीधे उतरती,
    पिए ना पिए मगर जाम है गजल!
    —विनय कुमार विनायक, झारखण्ड

    विनय कुमार'विनायक'
    विनय कुमार'विनायक'
    बी. एस्सी. (जीव विज्ञान),एम.ए.(हिन्दी), केन्द्रीय अनुवाद ब्युरो से प्रशिक्षित अनुवादक, हिन्दी में व्याख्याता पात्रता प्रमाण पत्र प्राप्त, पत्र-पत्रिकाओं में कविता लेखन, मिथकीय सांस्कृतिक साहित्य में विशेष रुचि।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Must Read

    spot_img