जाने और समझें शनि की ढैय्या और साढ़ेसाती के संकेत को —




शनिदेव को न्याय का देवता कहा जाता है। ऐसी मान्यता है कि शनिदेव का प्रभाव एक राशि पर ढाई या सात साल तक रहता है। इस वजह से व्यक्ति को शारीरिक, मानसिक और आर्थिक पीड़ा उठानी पड़ सकती है।ज्योतिष के अनुसार, जब शनिदेव का प्रभाव राशि पर होता है तो वह आने से पहले कई संकेत देते हैं। उन संकेतों को ध्यान में रखकर आप सजग हो सकते हैं। आप उसके निवारण के लिए उपाय कर सकते हैं।
आप अपनी नौकरी से हाथ धो सकते हैं यानी आपको नौकरी से निकाला जा सकता है।
आप जो व्यवसाय या व्यापार कर रहे हैं, उसमें मंदी आ जाएगी।
बुरी लत या गलत संगत में पड़ सकते हैं।
आप झूठ बोलने लगते हैं, हर वक्त झूठ का सहारा लेने लगते हैं।
आप किसी कानूनी पचड़े में पड़ सकते हैं, कोर्ट कचहरी के चक्कर लगाने पड़ सकते हैं।
जमीन जायदाद संबंधी विवाद हो सकता है।
भाई बहन या परिवार के किसी सदस्य से विवाद हो सकता है।
आचरण हीन हो सकते हैं या अनैतिक कार्यों में लिप्त हो सकते हैं।
कर्ज के भंवर में फंस सकते हैं, उस कर्ज से मुक्त होने के रास्ते नहीं दिखेंगे।
इनके अलावा आप अपनी कुंडली से भी पता लगा सकते हैं कि आप पर शनि की ढैय्या या साढ़ेसाती है या नहीं।



Leave a Reply

%d bloggers like this: