यह भाजपा की हार है, कांग्रेस की जीत नहीं

Posted On by & filed under राजनीति

आकलन – चित्रकूट परिणाम का चम्बल क्षेत्र की अटेर विधानसभा सीट से लेकर महाकौशल क्षेत्र की चित्रकूट विधानसभा सीट तक के नतीजों ने मध्यप्रदेश विधानसभा का अंक गणित नहीं बदला है। दोनों ही सीट कांग्रेस के पास थी और फिर एक बार कांग्रेस ही यहां काबिज हुई है। लेकिन चित्रकूट की ताजा हार ने मध्यप्रदेश… Read more »

गुजरात में कांग्रेस के सामने चुनौतियों का पहाड़

Posted On by & filed under राजनीति

सुरेश हिन्दुस्थानी देश के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बने गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस में अभी से ऐसे हालात बनने लगे हैं, जिनके कारण कांग्रेस के समक्ष एक तरफ कुआ तो एक तरफ खाई जैसी परिस्थितियां निर्मित होती दिखाई दे रही हैं। कांग्रेस की राष्ट्रीय राजनीति में गहरा प्रभाव रखने वाले अहमद पटेल के… Read more »

कांग्रेस को गुजरात में गठबंधन की तलाश

Posted On by & filed under राजनीति

मुस्लिम परस्ती से पीछा छुड़ा रही कांग्रेस सुरेश हिन्दुस्थानी लम्बे समय से हासिए की ओर जा रही कांग्रेस पार्टी गुजरात चुनाव के लिए गठबंधन की तलाश करती हुई दिखाई दे रही है। यह सब राहुल गांधी के नेतृत्व क्षमताओं पर सवाल खड़े करने के लिए काफी है। ऐसे में सवाल उठता है कि वर्तमान में… Read more »

नेतृत्व के अभाव से जूझती “कांग्रेस”_

Posted On by & filed under राजनीति

लोकतांन्त्रिक मूल्यों पर आधारित राजनीति करने वाले नेताओं व विरासत में मिली नेतागिरी में अंतर समझना हो तो राहुल गांधी के नित्य नये नये बचकाने बयानों को समझों । मूलतः नेहरु-गांधी की विरासत से देश की मुख्य पार्टी ‘कांग्रेस’ के उपाध्यक्ष बनें राहुल वर्षो से राजनीति में अपने को स्थापित करने में लगे हुए है… Read more »

गुजरात में मुस्लिम तुष्टिकरण से उभरती कांग्रेस

Posted On by & filed under राजनीति

प्रमोद भार्गव गुजरात में इसी साल अंत में विधानसभा के चुनाव होने हैं। हार्दिक पटेल द्वारा पटेल-पाटीदारों के लिए आरक्षण की मांग में बड़ा आंदोलन खड़ा कर देने के बाबजूद भाजपा कमोबेश बेफिक्र है। इधर कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र में यात्रा कर ऐसे संकेत दिए हैं कि कांगे्रस मुस्लिम… Read more »

विकृत मानसिकता और कांग्रेस के नेता

Posted On by & filed under राजनीति

सुरेश हिन्दुस्थानी भारतीय संस्कृति से साक्षात्कार करने वाला व्यक्ति कभी अपशब्द नहीं बोल सकता, जो अपशब्द बोलता है, वह भारतीय संस्कृति का संवाहक हो ही नहीं सकता। भारतीय संस्कृति में वसुधैव कुटुम्बकम् का भाव समाहित है। इस कारण कहा जासकता है कि भारत विश्व के लिए कल्याण का भाव रखता है, लेकिन हमारे देश के… Read more »

पटेल जीते, लेकिन कांग्रेस हार गई!

Posted On by & filed under राजनीति

सुरेश हिन्दुस्थानी देश में लगातार सिमटते जा रहे सबसे पुराने राजनीतिक दल कांग्रेस की स्थिति एक डूबता हुआ जहाज की तरह ही दिखाई दे रही है। देश की जनता ने तो पहले ही कांग्रेस का साथ देना छोड़ दिया है, लेकिन अब स्थिति यह आ गई है कि उसके अपने नेता भी साथ छोड़ने लगे… Read more »

एक पहलवान और 25 मरीज

Posted On by & filed under राजनीति

गुजरात में शंकरसिंह वाघेला ने कांग्रेस छोड़ दी या कांग्रेस ने वाघेला को छोड़ दिया, उससे क्या फर्क पड़ने वाला है ? वाघेला यदि कांग्रेस में रह भी जाते तो क्या वे मुख्यमंत्री बन सकते थे? क्या चुनाव जीतकर वे सरकार बना सकते थे ? गुजरात में कांग्रेस की दाल पहले से पतली है। उसके… Read more »

कांग्रेस : विनाश काले विपरीत बुद्धि

Posted On by & filed under राजनीति

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के सिमटने के बाद कांग्रेस ने अपने आपको संभालने का कोई प्रयास नहीं किया, इसके चलते उसे देश के महत्व पूर्ण राज्यों में भी पराजय का दंश झेलना पड़ा। कांग्रेस ऐसा क्यों कर रही है, इसका जवाब यही हो सकता है कि सरकारी सुविधाओं के बिना कांग्रेस के नेताओं की स्थिति जल बिन मझली के समान हो जाती है। उसकी तड़पन कांग्रेसी नेताओं के स्वरों में सुनाई देती है।

कांग्रेस का एक ही गलती को बार-बार दोहराना ?

Posted On by & filed under राजनीति

कांग्रेस की नई राजनीतिक अलोचना की शुरूआत यहीं से होती है। जब भाजपा एवं अन्‍य राजनीतिक-सामाजिक संगठनों ने इस विषय को लेकर कांग्रेस को घेरा तो उसने सफाई दी कि यह प्रिंट की गलती है। क्‍या कांग्रेस जैसी देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी से यह अपेक्षा की जा सकती है‍ कि वह इस प्रकार की ग‍लतियां करने की गुंजाइश अपने यहां रखे, जबकि उसे पता है कि उसके एक नेता पं. नेहरू की गलती जम्‍मू-कश्‍मीर मामले पर इतनी भारी पड़ी है कि देश आजतक उसे भुगत रहा है।