रमन सरकार के 5000 दिन : जश्र आम आदमी के भरोसे का

Posted On by & filed under राजनीति

मनोज कुमार किसी भी राज्य के समग्र विकास के लिए स्थायीत्व पहली शर्त होती है. सरकारों का चुन जाना और थोड़े समय में सत्ता में फेरबदल से विकास न केवल प्रभावित होता है बल्कि आम आदमी में निराशा का भाव भी उत्पन्न होता है. यही कारण है कि इस बार निर्वाचित सरकार को अगली बार… Read more »

जनाक्रोश !

Posted On by & filed under विविधा

कोई यह तो नहीं कह सकता कि मोदी सरकार आतंरिक व वाह्य आतंकी दुश्मनों से निपटने का सतत् व परिणामपरक प्रयास ही नहीं कर रही है पर आम जनता को लग रहा है कि मोदी सरकार निर्णायक कदम न उठाकर राष्ट्र का लगातार नुकसान कर रही है। मोदी सरकार व मोदी के नेतृत्व पर देश… Read more »

शिक्षा का आसमां छूता छत्तीसगढ़

Posted On by & filed under राजनीति

छत्तीसगढ़ में रमनसिंह सरकार ने सब पढ़ेंगे, नई दुनिया गढ़ेंगे के तर्ज पर प्राथमिक शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा देने के पर्याप्त इंतजाम किया है. हर बच्चा स्कूल जा सके, इसके लिए उनकी पहुंच के भीतर शाला भवनों की व्यवस्था की गई है तो उच्च शिक्षा के लिए अनेक नवीन योजनाओं की शुरूआत की गई है. नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में पिछले सालों से छू लो आसमां और प्रयास स्कूलों के तहत शिक्षा के पूरे इंतजाम हैं जिसके कारण छत्तीसगढ़ के बच्चे कामयाबी की नई इबारत लिखने में जुट गए हैं. 16 साल पहले जब छत्तीसगढ़ राज्य का गठन हुआ था तब और आज के हालात में जमीन आसमां का अंतर दिख रहा है.

डहरिया साहब, यह लोकतांत्रिक पाप है

Posted On by & filed under राजनीति

कांगे्रस के वरिष्ठ नेता शिव डहरिया साहब से अपनी ना तो दोस्ती है और ना ही दुश्मनी। जब वे विधायक थे तब एक-दो बार विधानसभा में हैलो-हॉय जरूर हुआ। पेशाई होड़ भी नही है। कहां वे सुघड़ राजनीतिज्ञ और कहां अपन टुच्चे से पत्रकार लेकिन दोनों गुरूघासीदास बाबा के इस सिद्धांत पर भरोसा करते हैं… Read more »

छत्तीसगढ़ में स्त्री सशक्तिकरण की नई इबारत

Posted On by & filed under समाज, सार्थक पहल

अनामिका मनुष्य ने समय-समय पर अपने साहस का परिचय दिया है. आज हम जिस दुनिया में जी रहे हैं, वह हमारे साहस का ही परिणाम है. आदिमानव के रूप में हम कभी इस बात का यकिन ही नहीं कर सकते थे कि आसमान में हवाई जहाज उड़ा करेंगे लेकिन आज मनुष्य अपने सांसों से अधिक… Read more »

अब सिर्फ गेंदा फूल भर नहीं है रायपुर

Posted On by & filed under विविधा

राज्योत्सव के प्रसंग पर विशेष संजय द्विवेदी अभिषेक बच्चन की पिछले दिनों आई फिल्म दिल्ली-6 के गाने-‘सास गारी देवे, देवर जी समझा लेवे, ससुराल गेंदा फूल…’. में रायपुर का भी जिक्र आता है। इस गाने के बोल छत्तीसगढ़ी भाषा में हैं, जिसे पहली बार रायपुर की ही प्रसिद्ध जोशी बहनों ने गाया है। हालांकि अब… Read more »

ग्यारह बरस का छ्त्तीसगढ़

Posted On by & filed under लेख

संजय द्विवेदी छत्तीसगढ़ राज्य के स्थापना दिवस (1 नवंबर) पर विशेषः   नक्सली आतंकवाद सबसे बड़ी चुनौती छत्तीसगढ़ राज्य यानि वह उपेक्षित भूगोल जो पिछले 11 सालों से अपने सपनों में रंग भरने की कोशिशें कर रहा है। छत्तीसगढ़ राज्य की स्थापना के लिए हुए संघर्षों की मूल भावना को समझें तो साफ नजर आएगा… Read more »

छत्तीसगढ़: राजनेता बनाम नौकरशाह

Posted On by & filed under राजनीति

छत्तीसगढ़ की पिछली सरकार अपनी पारी पूरे करने जा रही है. बस चंद दिन शेष हैं. कुछ अन्य लोगों के साथ यह लेखक भी मुख्यमंत्री से मिलने मंत्रालय में बैठा है. साथ में आदिवासी वर्ग से चुने गए एक संसदीय सचिव (विधायक एवं राज्यमंत्री का दर्ज़ा) भी बैठे हैं. तभी सीएम के चेंबर से मुख्य… Read more »

धार्मिक आस्थाओं का हृदयप्रदेश छत्तीसगढ़ – संजय द्विवेदी

Posted On by & filed under विविधा

अपनी आदर्श परंपराओं और संस्कारों के लिए जाना जाने वाला छत्तीसगढ़ सही अर्थों में सद्भावना का टापू है। भारतीय परम्परा की उदात्तता इसकी थाती है और सामाजिक समरसता इसका मूलमंत्र। सदियों से अपनी इस परंपरा के निर्वहन में लगी यह धरती अपनी ममता के आंचल में सबको जगह देती आयी है। शायद यही कारण है… Read more »

छत्तीसगढ़ में आरएसएस कार्यकर्ता की हत्या से तनाव

Posted On by & filed under प्रवक्ता न्यूज़

रायपुर,  छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में  आज राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक प्रमुख कार्यकर्ता की संदिग्ध नक्सलियों द्वारा हत्या करने के बाद इलाके में तनाव फैल गया है। स्थानीय पुलिस अधिकारियों के हवाले से मीडिया में खबर आई है कि जिले के सुकमा प्रखंड स्थित किकिरपाल गांव में अज्ञात नक्सलियों ने आरएसएस के… Read more »