पड़ौसी पड़ोसी है हिंदू न मुस्लिम…….

 इक़बाल हिंदुस्तानी

हरेक तश्नालब की हिमायत करूंगा,

समंदर मिला तो शिकायत करूंगा।

अगर आंच आई किसी जिंदगी पर,

हो अपना पराया हिफ़ाज़त करूंगा।

अभी तो ग़रीबों में मसरूफ हूँ मैं,

मिलेगी जो फुर्सत इबादत करूंगा।

तरक्की की ख़ातिर वो यूं कह रहा था,

मैं जिस्मों की खुलकर तिजारत करूंगा।

ज़मीर अपना बेचंू जो दौलत कमाउ,

अब इक रास्ता है सियासत करूंगा।

उसूलों पे अपने जो क़ायम रहेगा,

वो दुश्मन भी हो तो मुहब्बत करूंगा।

पड़ौसी पड़ौसी है हिंदू न मुस्लिम,

मैं बच्चो को यही हिदायत करूंगा।

क़लम जो लिखेगा वो बेबाक होगा,

अगर दिल ये माना सहाफत करूंगा।।

 

 

शीत लू वर्षा को भी क्यों मुपफ़लिसी से बैर है………

अब कहां पहले सी खुश्बू है सुमन बदला हुआ,

है हवा बदली हुयी रंग ए चमन बदला हुआ।

ताकतो के जुल्म का तो सिलसिला थमता नहीं,

लाख बदली हो ज़मीं और ये गगन बदला हुआ।

हो रही है ताजपोशी माफियाओं की यहां,

रहनुमाओं का हमारे है वचन बदला हुआ।

शीत लू वर्षा को भी क्यों मुफलिसी से बैर है,

मरने वाले हैं वही सब बस कफन बदला हुआ।

कौन सी किससे जा मिलेगा रहबरों का क्या पता,

सांप हैं सब एक जैसे सिर्फ फन बदला हुआ।

बात की दुनिया भर की देखो अब ग़ज़ल कहने लगी,

शायरी का लग रहा है आज फ़न बदला हुआ।

भूख लाचारी जहां हो आम इंसां का मयार,

कैसे बोले कोई तब तक है वतन बदला हुआ।

अपनी इज़्ज़त हाथ में होती है अपने सोचलो,

आज तहज़ीब का भी है चलन बदला हुआ।।

 

1 thought on “पड़ौसी पड़ोसी है हिंदू न मुस्लिम…….

Leave a Reply

%d bloggers like this: