अखिलेश के राजनीतिक बचपने की हद, दिया ऐसा बयान कि…

Posted On by & filed under राजनीति

अखिलेश यादव को राजनीतिक परिपक्व समझा जाता था, लेकिन अखिलेश राजनीतिक के इतने कच्चे खिलाड़ी निकलेंगे, किसी को पता नहीं था। कई सारे मायनों से अब ये बात स्पष्ट हो रही है। चुनाव परिणाम से पहले टीवी चैनलों के एग्जिट पोल को देखने के साथ ही जहां सब शांत थे, वहीं अखिलेश को बुआ का… Read more »

चुनाव परिणामों से भाजपा के फिर आ गये अच्छे दिन ?

Posted On by & filed under राजनीति

मृत्युंजय दीक्षित पांच प्रांतों व कुछ राज्यों की विधानसभा सीटों के उपचुनाव परिणामों पर पूरे देश की नजर थी। भारतीय जनता पार्टी के लिये यह चुनाव उतने महत्वपूर्ण नहीं माने जा रहे थे लेकिन दूसरी सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस के लिये यह चुनाव अत्यधिक महत्वपूर्ण माने जा रहे थे क्योंकि भाजपा के नजरिये से इन… Read more »

ध्वस्त हुई विभाजनकारी राजनीति

Posted On by & filed under जन-जागरण, राजनीति

-अरविंद जयतिलक- एक कहावत है कि सोने पर हथौड़ा गिरता है तो आभूषण बन जाता है। लेकिन यह बात शायद नरेंद्र मोदी के विरोधियों के समझ नहीं आयी और वह चुनाव के अंतिम क्षण तक मोदी पर आरोपों का हथौड़ा चलाते रहे। कभी नपुंसक कहकर अपमानित किया तो कभी कसाई जैसे शब्दों से नवाजा। शायद… Read more »

चुनाव परिणामों के निहित अर्थ

Posted On by & filed under राजनीति

-राकेश कुमार आर्य- इतिहास में नया अध्याय पलटना बड़ा सरल है, परंतु नया इतिहास लिखना बड़ा कठिन है। वैसे इतिहास की भी ये प्रकृति और प्रवृति है कि वह कदमताल करते काल को धक्का देकर उसकी गति बढ़ाने के लिए समकालीन समाज को प्रेरित भी करता है और आंदोलित भी। …और यही हुआ है भारत… Read more »

16वीं लोकसभा- जो यह होगा तो क्या होगा, जो वह होगा तो…

Posted On by & filed under चुनाव, राजनीति

-निर्मल रानी – 16वीं लोकसभा के चुनाव परिणाम आने में मात्र चंद दिनों का समय शेष रह गया है। यदि टीवी चैनल्स द्वारा बनाई गई मोदी लहर तथा इसी मीडिया द्वारा बार-बार जारी की जा रही सर्वेक्षण रिपोर्ट्स की मानें फिर तो नरेंद्र मोदी अपनी कथित लहर पर सवार होकर संभवत: तीन सौ सीटों के… Read more »

चुनाव परिणामों पर टिकी दिग्गजों की निगाह

Posted On by & filed under विधानसभा चुनाव

उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव के परिणाम जहां देश की आगामी राजनीति को बदलने की कुव्वत रखते हैं तो इन चुनाव परिणामों के बाद प्रदेश से जुड़े कारपोरेट घरानों के हित भी प्रभावित होना तय है| इस लिहाज़ से देखें तो बदलते सत्ता समीकरणों पर कारपोरेट दिग्गजों की पैनी नज़र टिकी है| कोई मुनाफा कमाना चाहता है… Read more »