ब्राह्मण किंग से किंग मेकर बना फिर भी किनारे किये गये

Posted On by & filed under प्रवक्ता न्यूज़

डा. राधेश्याम द्विवेदी ब्राह्मण शब्द से ही इनका अर्थ पता चलता हे की ब्रह्म को जाननेवाले को ब्राह्मण कहते हे, 3 युगों तक वैदिक सनातन धर्म में ज्ञान वर्ग को ब्राह्मण के नाम से जाना गया कर्म से ब्राह्मण ने सदेव ज्ञान दिया, धर्म को मजबूत किया परन्तु कलयुग में ब्राह्मण और धर्म दोनों को… Read more »

शूद्रों को ब्राह्मण बनाने वाले परशुराम

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

-प्रमोद भार्गव- -भगवान परशुराम जयंती 21 अप्रैल के अवसर पर- हमारे धर्म ग्रंथ और कथावाचक ब्राह्मण भारत के प्राचीन पराक्रमी नायकों की संहार से परिपूर्ण हिंसक घटनाओं के आख्यान तो खूब सुनाते हैं, लेकिन उनके समाज सुधार से जुड़े जो क्रांतिकारी सरोकार थे, उन्हें लगभग नजरअंदाज कर जाते हैं। विष्णु के दशावतारों में से एक… Read more »

यदि रा‍हुल ‘ब्राह्मण’ तो सोनियाजी क्या हैं? / अम्बा चरण वशिष्ठ

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख, राजनीति

गान्धी परिवार अपने आप को पंथनिरपेक्ष बताता है। दावा करते हैं कि उनकी राजनीति जाति और धर्म से ऊपर है। धर्मनिरपेक्ष होना और जातिवाद में आस्था न रखने का अर्थ यह नहीं होता कि व्यक्ति की कोई जाति नहीं है, धर्म नहीं। पण्डित जवाहरलाल नेहरू धर्मनिरपेक्ष थे और जातिवाद के विरोधी। इसके बावजूद उन्होंने कभी… Read more »