नमो सरकार को परखने के लिये अभी कुछ और वक्त देना होगा?

Posted On by & filed under राजनीति

-इक़बाल हिंदुस्तानी- -भाजपा अपना बहुमत लाने के बाद भी डर डरकर कदम उठा रही!- नमो सरकार चुनाव से पहले जो सपने जनता को दिखा रही थी उन पर आमूलचूल अमल होता नज़र नहीं आ रहा है लेकिन पांच साल के लिये चुनी गयी सरकार का फैसला दो महीने में करना भी अन्याय होगा। पाकिस्तान का… Read more »

बाजार को बढ़ावा देने वाला बजट

Posted On by & filed under आर्थिकी

-प्रमोद भार्गव- रेल बजट ने ही नरेंद्र मोदी सरकार के बजट की दिशा तय कर दी थी। जाहिर है, आम बजट भी उसी दिशा आगे बढ़ना था। जिस तरह से रेलवे में एफडीआई और पीपीपी को प्रोत्साहित करने की खिड़कियां खोली गई हैं, उसे आगे बढ़ाते हुए आम बजट में इसके दरवाजे खोल दिए गए।… Read more »

अच्छे दिन की छाप, दिग्भ्रमित वाला विलाप

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख

-कुमार सुशांत- बहुत सारे लोग ये पूछते हैं- ‘अच्छे दिन आएंगे, क्या हुआ, अच्छे दिन तो आए नहीं, महंगाई बढ़ गई, राजग सरकार द्वारा घोषित पहले रेल बजट में कोई राहत भी नहीं मिली’। ठीक है उनका सवाल जायज है। लेकिन सवाल है कि अच्छे दिन का मापदंड क्या हो ? केवल चीजों के दाम… Read more »

कान पकाऊ होता मीडिया का ‘मोदी प्लान’!

Posted On by & filed under राजनीति

-तारकेश कुमार ओझा- जिस माहौल में अपना बचपन बीता वहां की सबसे बड़ी खासियत यह थी कि मोहल्ले में किसी के यहां ब्याह- शादी या तेरहवीं भोज आदि होने पर सप्ताह भर पहले से मेनू व आयोजन से जुड़ी बातों की चर्चा शुरू हो जाती थी, जो आयोजन के एक सप्ताह बाद तक लगातार जारी… Read more »

नमो सरकार पर भरोसा कायम रखने की जरूरत

Posted On by & filed under राजनीति

-रंजीत रंजन सिंह- नरेन्द्र मोदी सरकार को सत्ता में आए एक महीना हो गया। अमुमन इस अवधि को राजनीतिक हनीमुन कहा जाता है। यूं तो एक महीने की अवधि किसी सरकार की कार्यकुशलता की समीक्षा के लिए र्प्याप्त नहीं है, फिर भी पूत का पांव पालने में तो पता चल ही जाता है। नरेन्द्र मोदी… Read more »

अपने निर्णय का सम्मान कीजिये

Posted On by & filed under राजनीति

-ऋतु के. चटर्जी- कैसे सोच लिया जनता ने कि जाने वाली सरकार उनके लिए अपने कार्यालयों में मिठाई के डब्बे छोड़ जाएगी. जब नयी सरकार, पुरानी सरकार द्वारा पहले से तैयार बजट को सामने लेकर आई तो लगे शोर मचाने, ठीक ही कहा है किसी ने कि सबको एकसाथ खुश रख पाना बेहद मुश्किल या… Read more »

औकात चवन्नी- भवकाल डॉलर का

Posted On by & filed under राजनीति

-नीरज वर्मा- “अच्छे दिनों” की शुरूआत हो चुकी है! रेलभाड़े में 14 और माल-भाड़े में 6.5 फ़ीसदी की बढ़ोतरी कर मोदी सरकार ने जता दिया है कि “अच्छे दिनों” के मामले में वो मनमोहन सिंह से भी बीस पड़ेंगे! यानि आने वाले दिनों में महंगाई, मनमोहन राज से भी ज़्यादा होगी! नून-तेल-आटा- प्याज- सब महंगा… Read more »

उम्मीद की किरण ‘मोदी’

Posted On by & filed under राजनीति

-निर्भय कुमार कर्ण- सच ही कहा गया है कि यदि आपके अंदर इच्छाशक्ति और अपने आप पर विश्वास हो तो कुछ भी किया जा सकता है और इस बात को नरेंद्र मोदी ने सोलहवीं लोकसभा चुनाव में में कर दिखाया। अब बारी है उन वादों-इरादों की पूरा करने और जनता के उम्मीदों पर खरा उतरने… Read more »

कांग्रेस के इस अंजाम पर किसी ने न सोचा होगा

Posted On by & filed under प्रवक्ता न्यूज़

-निशा शुक्ला- जिस अंग्रेजी हुकूमत के दौरान कांग्रेस का गठन हुआ। इसी के बैनर तले कई आजादी की लड़ाइयां लड़ी गईं। उसी कांग्रेस से एक भावनात्मक लगाव रखने वाले पंडित जवाहर लाल नेहरू, महात्मा गांधी जैसे महान शख्स थे। उस कांग्रेस का आज ये हाल हो जाएगा कि जनता उसे एक झटके में ताज से… Read more »

जादू वह, जो सिर चढ़ बोले

Posted On by & filed under राजनीति

-विजय कुमार- दिल्ली में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देशभक्तों की सशक्त सरकार बन गयी है। एक अंग्रेजी कहावत charity begins at home के अनुसार अच्छे काम घर से ही प्रारम्भ होते हैं। इसलिए मोदी ने वंशवाद से मुक्ति का अभियान भा.ज.पा. से ही प्रारम्भ किया है। राजस्थान में वसुंधरा राजे ने लोकसभा की सभी… Read more »