मेक इन इण्डिया व स्किल्ड इंडिया की परिकल्पना

Posted On by & filed under आंकडे, आर्थिकी, आलोचना, घोषणा-पत्र, चिंतन, चुनाव, चुनाव विश्‍लेषण, जन-जागरण, जरूर पढ़ें, टॉप स्टोरी, परिचर्चा, महत्वपूर्ण लेख, लेख, विविधा, सार्थक पहल

‘मेक इन’ व ‘स्किल्ड इंडिया’ की परिकल्पना साकार करेगा छत्तीसगढ़ का बजट– छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने 13 मार्च 2015 को विधानसभा में वित्तीय वर्ष 2015-16 के लिए बजट पेश किया। बजट में पूंजीगत व्यय में 39 प्रतिशत वृद्धि की गई है। बजट में युवा, अधोसंरचना विकास एवं औद्योगिक विकास को प्राथमिकता दी… Read more »

मंहगाई को आगे बढ़ाता बजट

Posted On by & filed under राजनीति

प्रमोद भार्गव रेल बजट के तत्काल बाद पेश किए आमबजट ने भी उतरोत्तर महंगाई बढ़ाने का ही काम किया है। जनता के रोजमर्रा के सरोकारों से जुड़े सामान उपभोक्ता की जेबें ढीली करेंगे। इन दोनों बजटों ने जनता के ऊपर 80 से 90 हजार करोड़ का बोझ बढ़ाया है। क्योंकि खानपान से लेकर घेरलु इलेक्ट्रोनिक… Read more »

नया बजट और नए खतरे

Posted On by & filed under आर्थिकी

नव्य उदारीकरण में भारत के अधिकांश बुद्धिजीवियों ने अपने को पूंजीपरस्ती से बांध लिया है। युवा इस पूंजी के नारकीय खेल से पीड़ित हैं । औरतें इसमें पिस रही हैं। किसानों और मजदूरों के जीवन में तबाही मची हुई है।  इसके बाबजूद वित्तमंत्री प्रणव मुखर्जी और उनकी भक्तमंडली दावा कर रही है कि भारत विकास कर… Read more »

बजट: इधर का उधर-उधर का इधर

Posted On by & filed under आर्थिकी

भारत में केंद्र सरकार का आम बजट आयेगा ,आ रहा है ,आ गया और चला भी गया ,ज्वलंत समस्याएं जहाँ थीं वहीँ की वहीँ रह गई ,आम आदमी हताश निराश है,महंगाई की मार का मारा वह बेचारा सोच रहा है, की हमारे देश का वित्त मंत्री चिंता केवल चिंता व्यक्त कर रहा रहा है ,करने… Read more »

त्वरित न्याय की संदेहीत प्रतिबद्धता

Posted On by & filed under आर्थिकी

संजय स्वदेश केंद्रीय बजट आने वाला है। मीडिया अपेक्षित बजट पर चर्चा करा रही है। पर इन चर्चाओं में अन्य कई मुद्दों की तरह न्यायापालिका पर खर्च की जाने वाली राशि पर कोई हो-हल्ला नहीं है। एक अकेले न्यायापालिका ही है जिसने कई मौके पर सरकार की जन अनदेखी कदम पर अंकुश लगाने की दिशा… Read more »

आम आदमी और बजट

Posted On by & filed under आर्थिकी

-वेद प्रकाश अरोड़ा बजट सरकार की आमदनी और खर्चों का बहीखाता ही नहीं होता, वह सरकार की आर्थिक नीतियों, सुधारों और राहों के कांटों-कठिनाइयों को हटाकर सुखद समाधान प्रस्तुत करने की दूर दृष्टि और भावी नीतियां तथा कार्यक्रम भी अपने दामन में लिए रहता है। कह सकते हैं कि वह विगत कल की उपलब्धियों, कमियों,… Read more »

बजट पेश, आयकर छूट की सीमा में मामूली वृद्धि

Posted On by & filed under आर्थिकी

वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने संसद में बजट पेश करते हुए आयकर में छूट की सीमा बढ़ाकर डेढ़ लाख से बढ़ाकर एक लाख 60 हज़ार कर दी गई है। साथ ही महिलाओं के लिए आयकर में छूट की सीमा एक लाख 80 हज़ार से बढ़ाकर एक लाख 90 हज़ार कर दी गई है। सरकार की… Read more »