पढ़िए – होली के राजनीतिक रंग, प्रवक्ता डॉट कॉम के संग

Posted On by & filed under राजनीति

बीते 11 मार्च को चुनाव परिणाम के साथ ही एक बार फिर राजनीति के ऐसे अजग-गजब रंग उभरने लगे जैसे वो सचमुच परिणाम से पहले एक अलग रंग की तरह चढ़ा और परिणाम के बाद उतर गया हो। होली के राजनीतिक रंग को और परवान चढ़ाने के लिए प्रवक्ता डॉट कॉम आपके सामने चुनावी रंग… Read more »

नेताजी की आखिरी स्क्रिप्ट है ये कलह

Posted On by & filed under राजनीति

अनुश्री मुखर्जी वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में देश में अधिकांशतः केवल एक ही राज्य पर चर्चा होती है, वो है उत्तर प्रदेश। होना भी चाहिए। देश के सबसे बड़ा राज्य में चुनाव। उस पर सत्तासीन सरकार में घमासान। कहां गया महागठबंधन का फॉर्मूला ? यानि जहां योजना बननी चाहिए, वहां मतभेद, वो भी मीडिया में प्राइम… Read more »

रमाबाई मैदान से प्रदेश में महापरिवर्तन का संकेत ?

Posted On by & filed under राजनीति

सर्वे से उत्साहित भाजपा मृत्युंजय दीक्षित उत्तर प्रदेश में चुनावी सरगर्मियां अब चरम सीमा पर पहंुच रही हैं। नये साल के दूसरे दिन ही लखनऊ के ऐतिहासिक रमाबाई मैदान में भाजपा ने महापरिवर्तन रैली का आयोजन किया जिसमें भाजपा के सामने सबसे बड़ी समस्या बसपा नेत्री मायावती की रैलियों में आने वाली भीड़ से भी… Read more »

उ.प्र. चुनाव : सपा की रणनीति से विरोधी होगें चित्त !

Posted On by & filed under राजनीति

बसपा की बात करें तो नोटबंदी के चलते बहनजी चर्चा में रही हैं । आम जनता को नोटबंदी से हुई परेशानी के लिये मायावती ने आवाज उठाई तो भाजपा ने चुनाव में नोट लेकर टिकिट देने की छवि प्रचारित कर इस आवाज को दबाने में कोई कसर नहीं छोड़ी । बसपा सपा को अराजकतावादी और भाजपा को साम्प्रदायिक घोषित करते हुये कानून व्यवस्था के मुद्दे पर चुनाव लड़ने जा रही है । विकास की नित नई योजनाओं से अखिलेश अपना पल्लू साफ करके मायावती की इस कोशिश को असफल करने में लगे हैं । कांग्रेस और लोकदल के जनसमर्थन के साथ आने से भी इस काले धब्बे को नकारने में सपा को मदद मिल जायेगी । ऐसे में बसपा का सीधा सामना इस महागठबंधन से होगा ।

चुनावी हार और जीत के मूल सबक

Posted On by & filed under चुनाव

-राजेश कश्यप पाँच राज्यों के चुनावी परिणामों ने यह साबित कर दिया है कि जो भी नेता अथवा पार्टी आम आदमी की भावनाओं की कद्र नहीं करती, उसकी ऐसी ही परिणति होती है। ये चुनाव परिणाम खासकर कांग्रेस पार्टी के लिए गहन आत्म-मंथन करने और सबक लेने वाले हैं। चार राज्यों में कांग्रेस की करारी… Read more »

पड़ेगा यूपी चुनाव का केंद्र पर असर

Posted On by & filed under राजनीति

सिद्धार्थ शंकर गौतम  उत्तरप्रदेश में छठे चरण के मतदान के बाद भी वहां की सियासी तस्वीर भले ही धुंधली हो, पर तमाम कयासों के बीच केंद्र सरकार पर पड़ने वाले आगामी परिणामों पर चर्चाओं का बाजार गर्म है। जिस तरह के संकेत मतदान से मिल रहे हैं, उनसे इतना तो साफ है कि प्रदेश में… Read more »

भारी मतदान से दलों में मचा हडकंप

Posted On by & filed under चुनाव

विनायक शर्मा उत्तर प्रदेश में अभी तक पांच चरणों के संम्पन्न हुए चुनावों में भारी मतदान के समाचारों से न केवल सभी आश्चर्यचकित हैं बल्कि राजनैतिक दलों में भीतरखाते हडकंप सा मच गया है विशेषकर बसपा और कांग्रेस में जिन्हें यहाँ होने वाली पराजय पर वर्तमान और भविष्य में बहुत कुछ खोना पड़ेगा. एक और… Read more »

उत्तर प्रदेश के चुनाव में अगड़ों की उपेक्षा

Posted On by & filed under चुनाव विश्‍लेषण

उत्तर प्रदेश के चुनाव के दौरान जो एक बात स्पष्ट रूप से दिख रही है वो ये की आज ब्रह्मण, राजपूत और अन्य तथाकथित अगड़े हिन्दुवों के लिए सोचने वाला कोई नहीं है। चाहे सपा हो बसपा हो या कांग्रेस सहित अन्य क्षेत्रीय पार्टियाँ इन सबकी राजनीति बस मुस्लिमो और दलितों के इर्द गिर्द तथा… Read more »

उत्तर प्रदेश चुनावों को भावनाओं की भेंट चढ़ाने की तैयारी

Posted On by & filed under चुनाव

तनवीर जाफ़री एक दशक पूर्व तक भारतीय लोकतंत्र में होने वाले चुनावों में राजनीतिक पार्टियों द्वारा चुनाव पूर्व जारी किए जाने वाले चुनाव घोषणा पत्र पर मतदाताओं की नज़रें लगी रहती थीं। इन घोषणा पत्रों से मतदाताओं को यह पता चल जाता था कि उसने जनता से किन वादों, आश्वासनों और एजेंडे के नाम पर… Read more »

उप्र चुनाव : कुछ आशंकाएं, कुछ संभावनाएं

Posted On by & filed under विधानसभा चुनाव

दीनानाथ मिश्र  अर्थशास्त्रियों ने कभी उत्तर प्रदेश का नाम बीमारू प्रदेश में शरीक किया था। कई बीमारू प्रदेश थे। कई प्रगति के राह पर चल दिए। जैसे बिहार का उल्लेख किया जा सकता है। जहां तक दक्षिणी राज्यों का सवाल है, वहां कोई बीमारू प्रदेश नहीं थे। उत्तर के भी कुछ राज्य जिसमें पंजाब, हिमाचल… Read more »