अखिलेश

न मुलायम की स्क्रिप्ट, न अखिलेश का पैंतरा, अब कांग्रेस पर गुस्सा उतरा

अखिलेश के सामने एक और विकल्प है कि जो पुराने नेता या विधायक नाराज हैं और जो दूसरे दलों में जाकर भी चुनाव नहीं जीते, उन्हें एक बार फिर से पार्टी में बुलाने और नए सिरे से पार्टी को खड़ा करने की कोशि‍श कर सकते हैं। कारण है कि चुनाव हारने की वजह से अखिलेश की संगठन पर ढीली पकड़ भी सामने आई है। अब इस कमी को पूरा करने के लिए पुराने लोगों को साथ लाना होगा।

सपा परिवार में फिर खिंची तलवारें

समाजवादी परिवार में जर्बदस्त कलह के बाद परिवार के छोटे-बड़े सदस्यों/नेताओं के बीच सुलह का जो माहौल दिखाई दे रहा था,वह बनावटी था। असल में किसी ने भी ‘हथियार’ नहीं डाले थे। समय का चक्र ऐसा घूम रहा था जिसने समाजवादी लड़ाकुओं को ऐसा करने के लिये मजबूर कर दिया था, अगर ऐसा न होता तो विधान सभा चुनाव में सपा की सियासत कौड़ी के भाव निलाम हो जाती।