भाषा का प्रश्न और  जापान का अनुकरणीय उदाहरण (१) 

Posted On by & filed under विविधा

डॉ. मधुसूदन (एक) प्रवेश:  विमान छूटने में विलम्ब घोषित हुआ, तो कुछ अवकाश मिल गया।और,  मुझे छोडने  आया युवा हर्षित हो उठा। मैं, पहले, कारण समझ नहीं पा रहा था; पर, विलम्ब के कारण वार्तालाप का जो समय मिला, उसपर युवा हर्षित था। ताडने में मुझे विशेष समय ना लगा। उसके कुछ प्रश्न थे; विशेष… Read more »

जापान : कर्मयोग का ज्वलंत आदर्श

Posted On by & filed under जन-जागरण

डॉ. मधुसूदन (एक) प्रवेश: आज हम ऐसे मोड पर खडे हैं, जहाँ से दो रास्ते निकलते हैं। एक कठिन परिश्रम का। दूसरा फिरसे गत ६७ वर्षों की उदासीन और ढीली कार्यवाही का। इस दृष्टि से जापान का उदाहरण हमें काम आएगा, प्रेरणा भी देगा। हम अपनी भविष्य की पीढियों के लिए कुछ आमूलाग्र बदली हुयी… Read more »

जापान से पांच साला दोस्ती की योजना

Posted On by & filed under जन-जागरण

-प्रमोद भार्गव- उगते सूरज के देश जापान में भारत के मधुर संबंधों की सुबह हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जापान एक बड़े एजेंडे को पूरा करने की भरोसेमंद उम्मीद के साथ पहुंचे हैं, जो वैश्विक कूटनीतिक, सामरिक और आधुनिक तकनीकि हस्तांतरण के क्षेत्र में फलीभूत हुई है। इस पांच दिनी यात्रा में द्विपक्षीय सुरक्षा… Read more »

एशिया का नाटो

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

-फख़रे आलम- जापान के प्रधानमंत्री ने 30 मई 2014 को सिंगापुर के अपने भाषण में एशियाई देशों के नाटो के गठन का सुझाव दिया था। जापानी प्रधनमंत्री ने सुरक्षा के लिये अमेरिका, जापान, भारत एवं ऑस्ट्रेलिया के गठजोड़ की चर्चाएं कीं और इस क्षेत्रा में शान्ति प्रक्रिया को बहाल रखने में जापान की योगदान और… Read more »

जापान का नवनिर्माणः सोनामी के तीन वर्ष बाद का यह देश

Posted On by & filed under विविधा

-फख़रे आलम- 11 मार्च 2011 के दिन, 2 और 3 बजे के मध्य जब अन्य दिनों की भांति अपने काम काज में लगा था। फलोसीमा और ऐवातो जैसे शहरों पर प्रकृति की ओर से ऐसी विपत्ति आई कि न केवल जापान बल्कि विश्व ने ऐसी तबाही नहीं देखी। और लोग अपने अपने घरों, स्कूलों और… Read more »

जापान की राजनीतिः चार साल में पांच प्रधानमंत्री!

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

-राकेश उपाध्याय महज़ आठ महीने पहले जापान के प्रधानमंत्री बने युकियो हातोयामा ने 2 जून को अचानक पद से त्यागपत्र दे दिया। हातोयामा सरकार के कामकाज और खुद के प्रदर्शन से खुश नहीं थे। सरकार के खिलाफ बढ़ते जनरोष को कारण बताते हुए उन्होंने पद त्याग दिया। क्या आपने सुना है कि कोई प्रधानमंत्री मात्र… Read more »

जापान में नया सबेरा/50 साल के अमेरिका समर्थक शासन का अंत

Posted On by & filed under विश्ववार्ता

जापान में परिवर्तन की बयार ऐसी बही कि लगभग पिछले पांच दशकों से जापान में सत्तारूढ़ लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी का सूपड़ा साफ हो गया। विगत 30 अगस्त को संपन्न हुए मध्यावधि चुनावों में विपक्षी दल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ जापान को सहयोगी दलों के साथ दो तिहाई सीटों पर विजय प्राप्त हुई। सन् 1955 के बाद… Read more »