लोकतंत्र

कलावती लड़ेगी चुनाव तो राहुल कहाँ जायेंगे

लोकतंत्र के चाहने वालों के लिए एक और खुशखबरी है .आगामी महाराष्ट्र विधान सभा चुनाव में कलावती चुनाव लड़ रही है .पिछले साल सुर्खियों में रहने वाली विदर्भ के किसान की विधवा और ७ बच्चों की माँ कलावती यवतमाल के वणी विधानसभा सीट से चुनावी समर में कूद पड़ी हैं . कलावती ने तमाम राजनितिक दलों के टिकट को ठुकराकर विदर्भ जनांदोलन समिति और शेतकरी संघर्ष समिति के बैनर तले चुनाव लड़ना स्वीकार किया है .

कांग्रेस की सभी दो सीटों पर हुई हार

निगम चुनावों में तगडी जीत के बाद अब द्वारका विधानसभा उपचुनाव में भी भाजपा ने अपना झंडा बुलंद किया . द्वारिका से भाजपा उम्मीदवार प्रधुम्न राजपूत ने कांग्रेसी उम्मीदवार तिलोत्तमा चौधरी को 11362 मतों से हराकर कांग्रेस को करारा झटका दिया है . दरअसल राजपूत की जीत को परिवारवाद के खिलाफ लोकतंत्र की जीत मानी जा रही है .

छात्रसंघ की छाती पर लिंगदोह का रोलर

दिल्ली विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव संपन्न हुआ । इतिहास में पहली बार चार में से तीन पदों पर छात्रा प्रतिनिधि ने जीत हासिल की । लिंगदोह की आग में झुलसने के बाद भी दो प्रमुख छात्र संगठनों ने मीडिया और वामपंथी संगठनों के खोखले दावों को झुठलाते हुए अपना दबदबा बरकरार रखा । इस बार का डूसू चुनाव कई मायनों में गौर करने लायक है ।

लोकतंत्र हमारी सांस्कृतिक विरासत

मैं दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के चुनाव का उत्सव को देख रहा हूं। इसी महिने नई सरकार का गठन भी हो जायेगा। किसकी सरकार बनेगी? कौन राजा बनेगा? यह भविष्य के गर्भ में है।

अमीरों का लोकतंत्र – हिमांशु शेखर

इस बार के आम चुनाव में कई करोड़पति लोग जनता की नुमाइंदगी करने के मकसद से मैदान में उतर रहे हैं। करोड़पति उम्मीदवारों के मामले कोई भी दल और कोई भी राज्य पीछे नहीं है…