मोदी ने दो नहीं, तीन तारपीडो मारे हैं।

Posted On by & filed under राजनीति

वीरेन्द्र सिंह परिहार जहां तक नोटबंदी का सवाल है इसके पक्ष और विपक्ष में बहुत सारी बहसें हुई हैं। नोटबंदी से उम्मीद यह थी कि करीब तीन लाख करोड़ रुपए का कालाधन रद्द हो जाएगा। पर तकरीबन पूरा-का-पूरा कालाधल वापस आ गया। इस तरह से यदि नोटबंदी की योजना का मूल्यांकन हो तो यह कहा… Read more »

भ्रष्टाचार मिटाने को संकल्पित नरेन्द्र मोदी

Posted On by & filed under राजनीति

सुरेश हिन्दुस्थानी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भ्रष्टाचार के बारे में एक बार फिर से कड़ा रुख अपनाया है। उन्होंने तीखे शब्दों में कहा है कि भ्रष्टाचार करने वाले को छोड़ा नहीं जाएगा, मेरी कोई रिश्तेदार नहीं है। प्रधानमंत्री इस बात को भली भांति जानते हैं कि भ्रष्टाचार करने वाले रिश्तेदारों को राजनेताओं द्वारा हमेशा बचाने… Read more »

देश पर कम होता ऋण भार

Posted On by & filed under आर्थिकी, राजनीति

डॉ. मयंक चतुर्वेदी ऋण को विकास के लिए जितना अधिक अपरिहार्य माना गया है, उतना ही लगातार इससे डूबे रहने को जनमानस में घोर विपत्‍ति‍कारक स्‍वीकार्य किया गया है। भारत पर आज दुनियाभर का कितना कर्ज है, यह जानकर जितनी अधिक चिंता होती है, वहीं इन दिनों इससे भी सतुष्‍टी का भाग जाग्रत होता है कि कम से… Read more »

भारत में बुलेट ट्रेन, मोदीजी कुछ विचारणीय बातें

Posted On by & filed under विविधा

डॉ. मयंक चतुर्वेदी जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे 14 सितंबर को भारत दौरे पर आ रहे हैं। निश्‍चित ही उनके आगमन पर हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उनके साथ द्विपक्षीय वार्ता भी होगी। इतना ही नहीं तो जो सूचना है उसके अनुसार मोदी और आबे गांधीनगर में वार्ता करने के साथ ही महत्वाकांक्षी मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल… Read more »

अमेरिका ने दिखाया पाकिस्तान को आइना

Posted On by & filed under राजनीति

अमेरिका ने भी आतंकवाद के दंश को करीब से भोगा है। इसके साथ ही विश्व के अनेक देशों ने भी इस्लामिक आतंकवाद का साक्षात्कार किया है। वर्तमान में यह पूरी दुनिया जान चुकी है कि आतंकवाद कितना खतरनाक होता है। कश्मीर घाटी में भारत आतंकवाद को लम्बे समय से भोग रहा है। अमेरिका के डोनाल्ड ट्रम्प ऐसे पहले राष्ट्रपति हैं, जिन्होंने जम्मू कश्मीर सहित भारत के अन्य हिस्सों में आतंकवाद के लिए सीधे तौर पर पाकिस्तान को दोषी ठहराया है।

भारत-अमेरिका के नए दौर के संबंध

Posted On by & filed under राजनीति

प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा के पहले ही भारत को दो मोर्चों पर बड़ी कूटनीतिक सफलता मिली है। दोनों को लेकर भारत सरकार लंबे समय से राजनयिक स्तर पर अमेरिका पर दबाव बना रही थी। जिसमें कि पहला यह कि अमेरिका ने भारत को 22 अमेरिकी ‘गार्जियन ड्रोन’ के सौदे को मंजूरी दे दी है। ये ड्रोन अभी सिर्फ अमेरिकी सेना इस्तेमाल करती है, जिसेकि प्राप्‍त करने के लिए भारत लम्‍बे समय से प्रयासरत था। इस सौदे को लेकर ट्रंप के पूर्ववर्ती ओबामा प्रशासन ने वादा भी किया था। किंतु अपने कार्यकाल के दौरान ओबामा अपना किया वादा पूरा नहीं कर पाए थे जो अब जाकर ट्रम्‍प काल में पूरा होने जा रहा है।

बड़ी अदालत में बड़ा अन्याय

Posted On by & filed under विधि-कानून, विविधा

भारत के सर्वोच्च न्यायालय में आप किसी भी भारतीय भाषा का प्रयोग नहीं कर सकते। हिंदी का भी नहीं। हिंदी राजभाषा है। यह हिंदी और राज दोनों का मजाक है। यदि आप संसद में भारतीय भाषाओं का प्रयोग कर सकते हैं तो सबसे बड़ी अदालत में क्यों नहीं? सबसे बड़ी अदालत में सबसे बड़ा अन्याय है, यह ! देश के सिर्फ चार उच्च न्यायालयों में हिंदी का प्रयोग हो सकता है- राजस्थान, उप्र, मप्र और बिहार! छत्तीसगढ़ और तमिलनाडु ने भी स्वभाषा के प्रयोग की मांग कर रखी है।

एक साहसी जनप्रतिनिधि की ‘काशी हुंकार’

Posted On by & filed under राजनीति

संजय द्विवेदी एक प्रधानमंत्री का अपने चुनाव क्षेत्र में तीन दिन रूककर मतदाताओं से मिलना, चर्चा में है। जाहिर तौर पर ऐसा नरेंद्र मोदी ही कर सकते हैं। वे कर रहे हैं, आलोचनाओं के बाद भी कर रहे हैं। दिल्ली और बिहार के चुनाव परिणामों के बाद, कोई भी प्रधानमंत्री विधानसभा चुनावों में अपनी मौजूदगी… Read more »

राहुल गांधी पर अपने भाषणों में बहुत क्रूर हैं मोदी !

Posted On by & filed under राजनीति

देखा जाए तो, मोदी को इस क्रूर अंदाज में लाने का श्रेय भी कांग्रेस और खासकर राहुल गांधी और उनकी माता सोनिया गांधी को ही जाता है, जिन्होंने मोदी को ‘लाशों का सौदागर’ से लेकर ‘शहीदों के खून का दलाल’… और न जाने क्या क्या कहा। फिर वैसे देखा जाए, तो लोकतंत्र में अपनी ताकत को ज्यादा लंबे वक्त तक जमाए रखने के लिए कुछ हद तक क्रूर और अत्यंत आक्रामक होना भी आज मोदी की सबसे पहली जरूरत है।

अतुल्य भारत का चेहरा अब पीएम मोदी

Posted On by & filed under राजनीति

मृत्युंजय दीक्षित प्रधानमंत्री नरेंद्र मादी की सरकार एक के बाद एक चैंकाने वाले निर्णय ले रही है। मोदी सरकार की सबसे बड़ी विशेषता यह हो गयी है कि अब यह सरकार मीडिया में चल रही चर्चाओं के बिलकुल विपरीत फैसले रही है और उसी आधर मीडिया पर मीडिया में नयी चर्चाओं को जन्म दे रही… Read more »