केवल कृष्ण पनगोत्रा

स्वतंत्र लेखक

दहेजः कानून ही नहीं, कारगर सामाजिक प्रयास भी हैं जरूरी

केवल कृष्ण पनगोत्रा कुछ साल पहले पंजाब के साथ लगते जम्मू-कश्मीर के कठुआ में एक महिला सुनीता (काल्पनिक नाम) ने...

कांच के रिश्ते इन्सानी रूह का खुदकुशी के रूप में कत्ल करते हैं

केवल कृष्ण पनगोत्रा कुछ रोज़ पहले सुशांत सिंह राजपूत ने खुदकुशी कर ली। इस खबर से आवाम हैरान हुआ। इसलिए हुअा...

वर्गतंत्र में परिवर्तित होता लोकतंत्र

               *केवल कृष्ण पनगोत्रा प्रजातंत्र पर इतराते-ऐंठते सात दशक गुजर गए। ..और जब कोई न्यायाधीश या नौकरशाह सत्ता की चाकरी...

कलियुग में दैहिक नहीं, चारित्रिक रूप में करें श्रीकृष्ण की पहचान

   केवल कृष्ण पनगोत्रा यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत ।अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ॥परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् ।धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे...

19 queries in 0.351