इ. राजेश पाठक

लेखक

काल सुसंगत सैन्य-भाव को जाग्रत किया : गुरु पूर्णिमा-२४ जुलाई

इंजि. राजेश पाठक श्री अर्जुन देव के बलिदान के फलस्वरूप सिक्ख-धर्म के गुरुपद को जिन्होंने ग्रहण किया वो थे गुरु...

योग से आरोग्य और प्रतिभा का विकास दोनों ही संभव है

            “ ऐलोपेथी से डायग्नोसिस; आयुर्वेद के अनुसार खान-पान; और फिर योग का अभ्यास”- एनडीटीवी पर अपने इंटरव्यू में बिहार स्कूल ऑफ़...

भारतीय मूल चेतना के धर्म में ही बने रहने की प्रेरणा भारत रत्न भीमराव अम्बेडकर ने निर्मित करी.

डॉ अम्बेडकर जयंती- १४ अप्रैल ]                                                                                                 इं. राजेश पाठक                                                                                                           भारत रत्न भीमराव अम्बेडकर जब युवा थे, वे शाम के...

साधना से पायी परम अवस्था : संत रविदास

                                   जिस नवधा-भक्ति का रामचरितमानस में प्रतिपादन हुआ है, उसमें नौ प्रकार की भगवान की भक्ति के मार्ग बताये गए  हैं....

पारंपरिक औषधि का वैश्विक-केंद्र बनता भारत

                ‘दुनिया की फार्मेसी’ के बाद भारत  ‘वैश्विक आरोग्य’ का केंद्र भी बनकर  दिखा सकता है ये  कल्पना मात्र  नहीं, बल्कि...

सेवा के बहाने किसी का धर्म लूटने का अधिकार नहीं

१९ वीं सदी में दुनिया में विस्तार पाते यूरोपीय साम्राज्यवाद और पूंजीवाद की पृष्ठभूमि को स्पष्ट करते हुए अपनी पुस्तक...

17 queries in 0.412