राजनीति

चुनाव विश्लेषण : तथ्य जो नज़रअंदाज किये गए

अभी -अभी हमारे गणतंत्र या लोकतंत्र अथवा प्रजातंत्र जो भी कहें , क्योंकि वो बस कहने भर को हमारा है बाद बाकि इसकी आत्मा अर्थात संविधान तो आयातित ही है ना , का कुम्भ समाप्त हुआ है । वैसे तो यह कुम्भ मेला कम अखाडा ज्यादा लगता है पर अखाड़े की धुल मिटटी की जगह यहाँ भ्रष्टाचार के कीचड़ उछाले जाते हैं । आशंकाओं के विपरीत कांग्रेस का २०० सीटों पर जीत कर आना और यूपीए द्वारा बहुमत से सरकार बनाये जाने पर लोग खुश नजर आ रहे है।

न्यूटन का नियम और राजनैतिक स्थिरता – आशुतोष

यह स्थिरता भी गजब चीज है। न्यूटन ने बताया कि जो चीज स्थिर है वह तब तक स्थिर बनी रहती है जब तक बाहर से बल न लगाया जाय। 1687 में न्यूटन ने जब इस नियम को…

ये लोकसभा तो अपराधियों और करोड़पतियों की है – हिमांशु शेखर

लोकसभा चुनाव 2009 के नतीजों की व्याख्या अलग-अलग तरह से की जा रही है। हर तरफ यह बात कही जा रही है कि यह चुनाव राष्ट्रिय दलों के दौर की वापसी वाला रहा।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मंत्रिमंडल में शामिल लोग

पंद्रहवीं लोकसभा में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मंत्रिमंडल में शामिल लोग- प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सहित दो बार में कुल 79 लोगों ने मंत्रिपद की शपथ ली।…

नए मंत्रियों ने ली शपथ

राष्ट्रपति भवन में एक समारोह में आज प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की मंत्रिपरिषद के चौदह नए कैबिनेट मंत्रियों, स्वतंत्र प्रभाव वाले और राज्य मंत्रियों को शपथ दिलाई गई है।

कैबिनेट की बैठक में हुए कई अहम फैसले

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शनिवार को कैबिनेट की बैठक बुलाई थी। बैठक में निर्णय लिया गया है कि 15वीं लोकसभा का सत्र पहली जून से लेकर नौ जून तक चलेगा।

मनमोहन सिंह ने ली भारत के प्रधानमंत्री पद की शपथ

मनमोहन सिंह को राष्ट्रपति भवन के अशोक हॉल में शुक्रवार को आयोजित एक समारोह में राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने भारत के प्रधानमंत्री के रूप में पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई…

यह जनादेश ब्लैकमेलर्स के खिलाफ नहीं है – अमलेन्दु उपाध्याय

क्या पंद्रहवीं लोकसभा में कांग्रेसनीत गठबंधन यूपीए को अधिक सीटें मिलना, जनता का स्थाई सरकार के पक्ष में फैसला है? कहने को तो हमारे मीडिया गुरू और सरकार व प्रमुख विपक्षी दल…