जम्मू-कश्मीर

जम्मू-कश्मीर, लौहपुरुष और संघ 

पाकिस्तान नेयुद्ध का सहारा लेकर कबाइलियोंको कश्मीर पर आक्रमण करने के लिए उकसाना शुरू कर दिय​|​अब महाराजा खुद को बड़ी मुश्किल में फंसा हुआ पा रहे थे ​|
ऐसे नाजुक दौर में महाराजा की सहायता के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघसामने आया और महाराज को यह समझाने का सफल प्रयास किया कि भारत केसाथ राज्य का विलय करने में भी उनकी और राज्य की जनता की भलाई है।राज्य की स्थिति बेहद नाजुक हो चुकी थी।सरदार पटेल और महात्मा गांधी ने भीमहाराजा को मनाने का प्रयास किया, पर महाराजा नेहरू की अधिसत्ता को माननेके लिए तैयार नहीं थे।

“नागरिकों की सुरक्षा का प्रश्न” ….?

पिछले माह हमारे सेनानायक जनरल विपिन रावत ने अपने एक संदेश में स्पष्ट कहा था कि “जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बल ज्यादा हताहत इसलिए हो रहें है क्योंकि ‘स्थानीय लोग’ उनके अभियान में बाधा डालते है और कई बार आतंकवादियों को भगाने में भी मदद करते है।'” इसके साथ ही उन्होंने अपने कड़े संदेश में स्थानीय कश्मीरी लड़कों को चेतावनी भी दी थी कि “जिन लोगों ने हथियार उठाये है और इस्लामिक स्टेट व पाकिस्तान के झंडे लहराकर आतंकवादी कृत्य करते है तो हम उनको राष्ट्रविरोधी तत्व मानेंगे और उनको पकड़ कर उन पर कड़ी कार्यवाही होगी ।” इस साहसिक बयान पर नेताओं समेत अनेक तथाकथित बुद्धिजीवियों की आलोचनाभरी नकारात्मक टिप्पणियां आयी थी।