दिग्विजय सिंह

श्री दिग्विजय सिंह : बुरा न मानो भाई ये कांग्रेस का भोपूं है

परित्राणाय साधुनाम विनाशाय च दु:श्चकृताम ! धर्मसंस्थापर्थनाय संभवामि युगे युगे !! (गीता) भगवान् श्री कृष्ण