मानसून बिना, सब सून

Posted On by & filed under व्यंग्य, साहित्‍य

आजकल हर कोई मानसून आने का इंतज़ार कर रहा हैं , लेकिन मानसून तो पेट्रोल और डीज़ल की तरह भाव खा रहा हैं। लोग तरस रहे हैं पर बादल बरस नहीं रहे हैं, लगता हैं उन्होंने भी कमेंट्री करते सिद्धू जी के मुँह से ये मुहावरा सुन लिया है की ” गुरु ,जो गरजते हैं… Read more »

सूखे का संकट और मानसून के संकेत

Posted On by & filed under पर्यावरण, विविधा

सुरेश हिंदुस्थानी देश में प्राकृतिक वातावरण को निर्मित करने वाले संसाधनों का जिस प्रकार से दोहन हो रहा है, उससे कई प्रकार की विषमताएं हमारे सामने मौत बनकर आ रही हैं। हमारा देश वर्तमान में सूखे को लेकर गंभीर मंथन की मुद्रा में है। लेकिन क्या हमने इस बात पर विचार किया है कि यह… Read more »

मानसून की अस्थिरता के कारण सूखे की आशंका

Posted On by & filed under पर्यावरण, विविधा

अशोक “प्रवृद्ध”   प्राकृतिक अर्थात मौसमीय मार सिर्फ किसानों को नहीं वरन समस्त देश अथवा संसार को रूलाने की क्षमता रखती है और समय-समय पर इसने सबों को रूलाया भी है ।यह एक सर्वविदित तथ्य है कि कभी सूखा, कभी बाढ़ और अन्य प्राकृतिक आपदायें न केवल फसलों को क्षति पहुँचाते है, बल्कि गाँव के… Read more »

मानसून आने वाला है

Posted On by & filed under पर्यावरण, बच्चों का पन्ना, विविधा

मई और जून की तपती गर्मी के बाद होने वाली बारिश को मानसून कहा जाता है। तुम तो जानते हो कि बारिश के लिए बादलों वाला पानी होना जरूरी है, तभी तो बारिश होगी। तुमने यह भी सुना होगा कि इस बार मानसून देर से आएगा या बारिश कम होगी। इस मानसून के बारे आओ… Read more »

मौसम विभाग सत्य को उजागर करना नहीं चाहता

Posted On by & filed under विविधा

-मूलचंद सूथर- मौसम विभाग घोषणा करता है गर्मी बढ़ेगी और लेकिन आज फिर आंधी और वर्षा के आसार बनने शुरू हो गए हैं फिर मौसम विभाग जानना क्यों नहीं चाहता की इसकी वज़ह क्या है ? १९ मई को बीकानेर में आये तूफानी बवंडर व वर्षा के पीछे आर्य संस्कृति सनातन धर्मेव जयते की ओर… Read more »

मानसून की अस्थिरता से बढ़ता सूखे का खतरा

Posted On by & filed under जन-जागरण

-सिद्धार्थ शंकर गौतम- देश में भीषण गर्मी का दौर जारी है। एक ओर सूरज जहां आग बरसा रहा है वहीं मानसून को लेकर मायूसी बढ़ती जा रही है। ३० मई तक मानसून आने के पूर्वानुमान ध्वस्त हो चुके हैं और अब जनता से लेकर सरकार के माथे पर बल पड़ना शुरू हो गए हैं। आमतौर… Read more »

असाढ़ में सूखा : का बरखा जब कृषि सुखानी

Posted On by & filed under विविधा

-संजय स्वदेश- ——————————————– यह पहला ऐसा मौका नहीं है जब मानसून ने दगाबाजी की हो। आजाद भारत में दर्जनों बार सूखा पड़ा। लेकिन इससे न कोई सबक लिया गया और न ही इससे निपटने कोई ठोस और सार्थक तैयारी ने मूर्त रूप लिया। मौसम विभाग इस बात का आश्वासन दे रहा है कि जून में… Read more »

मौसम की सटीक भविष्यवाणी की मुश्किलें

Posted On by & filed under विविधा

-प्रमोद भार्गव- बरसात शुरू होने से पहले मौसम विभाग द्वारा मानसून की, की गई भविष्यवाणियों में फेरबदल चिंता का सबब बन रहा है। मई की शुरूआत में सामान्य से पांच फीसदी कम बरिश होने की भविष्यवाणी की गई थी, लेकिन 9 जून को की गई भविष्यवाणी में कहा गया कि औसत से सात प्रतिशत कम… Read more »

मानसून के मौसम में रखें अपना ख़ास ख्याल

Posted On by & filed under स्‍वास्‍थ्‍य-योग

-सरफ़राज़ ख़ान नई दिल्ली. मानसून के दौरान शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता में कमी हो जाती है। इसलिए इससे कई तरह की बीमारियां भी सामने आती हैं। मानूसन के दौरान होने वाली बीमारियां हैं- मलेरिया, डेंगू, चिकुनगुनिया, पीलिया, गैस्ट्रो इन्टेस्टाइनल संक्रमण जैसे टायफाइड व हैजा। इन बीमारियों के अलावा वायरल संक्रमण सेठंड व… Read more »