नोटबंदी

#नोटबंदी की समीक्षा

नोटबंदी भारत को कैशलेस अर्थव्यवस्था बनाने की दिशा में एक बड़ा कदम है. प्रधानमंत्री ने अपनी ‘मन की बात’ में भी अपनी इस इच्छा को जताया है. नोटबंदी के समर्थकों और आलोचकों दोनों के मन में यह सवाल है कि क्या भारत कैशलेस अर्थव्यवस्था के लिए तैयार है? एक बहुत बड़ी आबादी इस देश में रहती है जिसके लिए ग्रामीण, अशिक्षित और बैंक अकाउंट्स व स्मार्टफोन के बगैर इस नई व्यवस्था से जूझना काफी मुश्किल है.

#नोटबंदी के एक माह बाद देश के हालात

500 व एक हजार का #नोटबंद होने के बाद एक महीना बीत चुका है। पीएम मोदी ने देशवासियों के सहयोग से #कालेधन और #भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई की ऐतिहासिक शुरूआत कर दी है। पीएम मोदी जनसभाओं व कार्यक्रमों में #नोटबंदी को अब तक का सबसे ऐतिहासक कदम बता रहे हैं और विपक्ष नोटबंदी को लेकर लगातार आक्रामक बना हुआ है।

#नोटबंदी से भ्रष्टाचार मुक्त डिजिटल भारत की ओर

आठ नवम्बर 2016 के आठ बजे की वह घडी भारतीय अर्थ व्यवस्था के शुद्धिकरण के लिए एक ऐतिहासिक पल के रूप में जानी जाएगी। 500 व 1000 रूपए के नोटों को चलन से बंद करने की अचानक घोषणा ने समस्त देश वासियों को हिला कर रख दिया. गत एक माह के अनुभव ने एक बात तो सिखा दि कि हम समस्त भरत वंशियों को अब नकदी के मोह से उबर कर ‘नकदी रहित व्यवहार(कैश लैस ट्रान्जेक्शन)’ का अभ्यास तुरंत प्रभाव से करना पडेगा, जो दुनियाभर के विकसित तथा विकासशील देश पहले से ही सफ़लता पूर्वक कर रहे हैं।

नीति और नियमों का सरलीकरण जरूरी

#कालेधन एवं #भ्रष्टाचार से मुक्ति के लिये नीति एवं नियमों का सरलीकरण जरूरी है। नीति आयोग के अध्यक्ष अरविंद पानगड़िया ने इसी बात की आवश्यकता व्यक्त करते हुए कहा कि जटिल टैक्स नियमों को सरल बनाने और टैक्स दरों को कम करने का काम प्राथमिकता के आधार पर किया जाना चाहिए, नोटबंदी का उद्देश्य तभी सफल होेगा।

अब तो समझे विपक्ष जनता क्‍या चाहती है

लोकतंत्र शासन प्रणाली में जनता भगवान होती है, उसके रुख से ही यह तय होता है कि किस पार्टी की नीतियों के लिए उसका बहुमत है। जब से केंद्र में भाजपा की सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बने हैं, विपक्ष किसी न किसी बहाने, बिना कोई सार्थक मुद्दा होने के बावजूद भी लगातार सरकार को घेरने की कोशिश कर रहा है। हद तो यह है कि पुराने 500-1000 के नोट प्रचलन के बाहर करने की जहां देशभर में बहुसंख्‍यक जनता सरकार की तारीफ कर रही है, वहीं विपक्षी हैं कि उनके पेट में इतना दर्द हो रहा है कि वे एक माह तक मुकर्रर किए गए वक्‍त में आवश्‍यक विधेयकों एवं कार्रवाहीं के लिए चलनेवाले सदन को भी नहीं चलने दे रहे।

यूपी चुनावः नोटबंदी से ‘मंदा’ पड़ा टिकट का ‘धंधा’

अतीत से निकल कर वर्तमान पर आया जाये तो यह साफ नजर आ रहा है कि 2012 से 2017 के बीच यूपी की सियासत काफी बदल चुकी है। कई पुराने सूरमा हासिये पर जा चुके हैं तो अनेक नये सियासी चेहरे क्षितिज पर आभा बिखेर रहे हैं। 2012 के विधान सभा चुनावों से प्रदेश को अखिलेश यादव के रूप में एक युवा और उर्जावान नेता मिला था, जिसकी चमक तमाम किन्तु-परंतुओं के साथ आज भी बरकरार है। पांच वर्ष पहले सपा की सियासत मुलायम सिंह यादव के इर्दगिर्द घूमती थी,लेकिन आज की तारीख में सपा के लिये मुलायम से अधिक महत्ता दिखाई पड़ रही है

अर्थक्रांति और राष्ट्रवाद की और देश

अनेक उच्च वर्गीय लोगो का कहना था कि मोदी के नोट वापसी के फैसले के बाद वे निराश हें और या तो काम करना बंद कर देंगे अथवा विदेश चले जायेंगे। मेरा उनसे कहना है कि अगर वो ऐसा करते हें तो इस देश पर अहसान ही होगा क्योकि वो देश में कमाते भी हें तो टैक्स चोरी कर कालाधन विदेश भेज देते हें या विदेशो से नकद में आयात कर देश के उद्योगों की कमर तोड़कर युवा पीढ़ी को बेकार कर रहे हें। कृपया अपने साथ लंपट नेताओ और नोकरशाहों को भी ले जाइयेगा और जल्द हमें बताइये कि किस देश में आप बिना कानून माने और टैक्स दिए बिना अय्याशी कर रहें हें।

नोटबंदी पर क्‍यों भड़क रही हैं ममता ? 

देश में जिस दिन से बड़े पुराने नोट बंद किए हैं, उस दिन से आप देख लीजिए, आपको कांग्रेस, सपा, बसपा, आम आदमी पार्टी से ज्‍यादा कोई बेचैन नजर आएगा तो निश्‍चि‍त ही वे ममता ही होंगी। अब ममता से जुड़ी जो बात समझ नहीं आ रही, वह यह है कि प्रधानमंत्री के लिए इस फैसले पर वे इतनी आकुल और व्‍याकुल क्‍यों हो रही हैं। यहां तक कि कोलकाता में मार्च निकालने के वक्‍त मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी पीएम पर निशाना साधते हुए कह गईं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अचानक भगवान बनकर आए और उन्‍होंने नोटबंदी कर दी। मैं आज कसम लेती हूं कि चाहे में जिंदा रहूं या मर जाऊं लेकिन पीएम मोदी को भारतीय राजनीति से हटाकर रहूंगी।

नोटबंदी – ममता का  ’’अभियान प्रधानमंत्री’’- विभक्त विपक्ष

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश मे #नोटबंदी क्या लागू की एक साथ कई कई प्र्त्यक्ष और अप्रत्यक्ष मोर्चे एक साथ जीत लिए। प्र्त्यक्ष तो वह जो सारे के सारे अर्थशास्त्री कह रहे हैं और जो अब देश की जनता को भी प्रत्यक्षतः लाभ दिख रहे हैं और अप्रत्यक्ष जीत वह जो मोदी को विपक्षपर हासिल हुई है।

नोटबंदी पर विपक्ष हो गया फ्लाप ?

देश के राजनैतिक परिदृश्य व सामाजिक परिवेश में एक बहुत बड़ा बदलाव महसूस किया जा रहा है। घोर वामपंथी राज्यों में भी बंद फ्लाप हो गया । एक समय था जब वामदलों की एक आवाज से ही पूरा दक्षिण भारत व बंगाल पूरी तरह से बंद हो जाता था। तब मीडिया बिलकुल अगल तरह से भारत बंद आदि को पेश करता था। लेकिन इस बार तो सबसे बड़ा बदलाव यह आया है कि स्वयं वामपंथी दलों के कार्यालयों के बाहर लगने वाली दुकानें व व्यापारिक प्रतिष्ठान भी पूरी तरह से खुले रहे।

अगर बदलाव लाना है तो कानून नहीं सोच बदलनी होगी

#नोटबंदी के फैसले को एक पखवाड़े से ऊपर का समय बीत गया है बैंकों की लाइनें छोटी होती जा रही हैं और देश कुछ कुछ संभलने लगा है।
जैसा कि होता है , कुछ लोग फैसले के समर्थन में हैं तो कुछ इसके विरोध में स्वाभाविक भी है किन्तु समर्थन अथवा विरोध तर्कसंगत हो तो ही शोभनीय लगता है।

नोटबंदी के दौर में उपचुनावों का संदेश

#नोटबंदी के दौर में चार #लोकसभा और आठ #विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनावों के नतीजों ने भाजपा और उसके सहयोगी दलों को राहत देने का काम किया है। जिस नोटबंदी को अब तक विपक्ष एक शासक की सनक मानकर संसद को ठप करने की हद तक अड़ा हुआ है, वहीं आम मतदाता ने संदेश दे दिया है कि कतार में लगे रह कर वह कुछ समय के लिए परेशानी भले ही भुगत ले, लेकिन अंततः वह कालेधन से मुक्ती के उपाय के पक्ष में ही है।